बिंदु रम्मी कॉम

बिंदु रम्मी कॉम

time:2021-10-18 19:29:50 वित्त वर्ष 2020-21 में गोल्ड ईटीएफ में निवेश चार गुना बढ़ा Views:4591

औपचारिक ऑनलाइन लॉटरी सट्टेबाजी मंच बिंदु रम्मी कॉम 10cric नियम और शर्तें,casumo जर्मनी,लियोवेगास स्पोर्ट्स ऐप,lovebet शिकायतें,lovebet या बेट365,lovebet ज़ीगट मीन वेट निक्ट एन,क्या ऑनलाइन असली पैसे वाले शतरंज और ताश के खेल लोगों के लिए आंशिक हैं?,बैकरेट फ्री गोल्ड,बैकारेट विले,बेटिंग लूडो,कैसीनो शर्त,कैसीनो जीत,क्लासिक रम्मी टोल फ्री नंबर,क्रिकेट लेन कॉनकॉर्ड nh,ईए स्पोर्ट्स,आई स्पोर्ट्स,फुटबॉल ऑफसाइड नियम,उत्पत्ति कैसीनो समीक्षा भारत,फुटबॉल बाधा का विश्लेषण कैसे करें,आईपीएल समाचार हिंदी में,जैकपॉट गांव,लाइव ब्लैकजैक टूर्नामेंट,लॉटरी 10 जुलाई,लॉटरी क्षेत्र,एनबीए फाइनल स्कोर,ऑनलाइन कैसीनो xrp,भारत में ऑनलाइन पोकर कानूनी,परिमच इंडिया हेड ऑफिस,टीवी में पोकर,रियल लाइफ इंटरनेशनल बैकरेट,घर में शासन,रम्मी वेरिएंट वीडियो,स्लॉट मशीन कोस्टेनलोस स्पीलें,खेल 70s,स्पोर्ट्सबुक केसी,टेक्सास होल्डम न्यूनतम वृद्धि,टीआर कैसीनो,पोकर चेहरा क्या है,वाई कैसीनो मिन्स्क,ऋषि स्टेटस,क्रिकेट england,गोवा चार्ट,ढँकेसरी लाटरी सम्बाद नाईट,फुटबॉल हीरो इंडियन सुपर लीग,बेटा शायरी,लॉटरी फास्ट बाजार, .वित्त वर्ष 2020-21 में गोल्ड ईटीएफ में निवेश चार गुना बढ़ा

लगातार दूसरा वित्त वर्ष रहा जब गोल्ड ईटीएफ में निवेश हुआ. इससे पहले 2013-14 से गोल्ड ईटीएफ से लगातार निकासी देखने को मिली थी.
नई दिल्ली: जोखिम बढ़ने और कोविड-19 महामारी के बीच अनिश्चितता के चलते निवेशकों के सोने का आकर्षण बढ़ा है. वित्त वर्ष 2020-21 में गोल्ड एक्सचेंज ट्रेडेड फंड्स (ईटीएफ) में निवेशकों ने 6,900 करोड़ रुपये डाले.

यह लगातार दूसरा वित्त वर्ष रहा जब गोल्ड ईटीएफ में निवेश हुआ. इससे पहले 2013-14 से गोल्ड ईटीएफ से लगातार निकासी देखने को मिली थी. म्यूचुअल फंडों की संस्था एसोसिएशन ऑफ म्यूचुअल फंड्स इन इंडिया (एम्फी) के आंकड़ों से यह जानकारी मिली है.

इसे भी पढ़ें: किसे सता रहा अमेरिका में महंगाई बढ़ने का डर?

माईवेल्थग्रोथ डॉट कॉम के सह-संस्थापक हर्षद चेतनवाला ने कहा कि इस बात की संभावना काफी कम है कि चालू वित्त वर्ष में भी गोल्ड ईटीएफ में निवेश का यह ट्रेंड जारी रहे. हालांकि, कोरोना की दूसरी लहर ने बाजार को डरा दिया है.

एम्फी के आंकड़ों के अनुसार हाल में समाप्त वित्त वर्ष में निवेशकों ने गोल्ड से जुड़े 14 ईटीएफ में शुद्ध रूप से 6,919 करोड़ रुपये का निवेश किया. यह 2019-20 में हुए 1,614 करोड़ रुपये के निवेश का चार गुना है.

इससे पहले 2018-19 में गोल्ड ईटीएफ से शुद्ध रूप से 412 करोड़ रुपये की निकासी हुई थी. 2017-18 में गोल्ड ईटीएफ से 835 करोड़ रुपये, 2016-17 में 775 करोड़ रुपये, 2015-16 में 903 करोड़ रुपये, 2014-15 में 1,475 करोड़ रुपये और 2013-14 में 2,293 करोड़ रुपये निकाले गए थे.

इसे भी पढ़ें: विदेशी निवेशकों ने अप्रैल में भारतीय बाजार से निकाले 929 करोड़ रुपये

हालांकि, साल 2012-13 के दौरान इस सेगमेंट में 1,414 करोड़ रुपये का निवेश हुआ था. बीते कुछ सालों से रिटेल निवेशकों ने बेहतर रिटर्न की चाहत में गोल्ड ईटीएफ की तुलना में इक्विटी बाजार में अधिक पैसा डाला है.

क्वांटम म्यूचुअल फंड के सीनियर फंड मैनेजर (ऑल्टरनेटिव इंवेस्टमेंट) चिराग मेहता ने कहा, "अधिक जोखिम और कोरोना वायरस के चलते बढ़ी अस्थिरता का असर इक्विटी जैसे जोखिम भरे एसेट्स को प्रभावित करेंगी. निवेशकों की दिलचस्पी गोल्ड जैसे सुरक्षित एसेट्स में बढ़ सकती है."




हिंदी में पर्सनल फाइनेंस और शेयर बाजार के नियमित अपडेट्स के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज. इस पेज को लाइक करने के लिए यहां क्लिक करें.

टॉपिक

गोल्ड ईटीएफक्वांटम म्यूचुअल फंडएम्फीशेयर बाजारईटीएफएक्सचेंज ट्रेडेड फंडमाईवेल्थग्रोथ डॉट कॉमकोरोना वायरस

ETPrime stories of the day

PrimeTalk invite | Blurring the lines of retail.
Modern retail

PrimeTalk invite | Blurring the lines of retail.

2 mins read
Inside Amrish Rau’s experiments at Pine Labs: card swipe as a gateway to everything that’s SaaS
Fintech

Inside Amrish Rau’s experiments at Pine Labs: card swipe as a gateway to everything that’s SaaS

10 mins read
Auto sales may plunge 30% this festive season. But don’t blindly point a finger at tepid demand.
Auto

Auto sales may plunge 30% this festive season. But don’t blindly point a finger at tepid demand.

12 mins read

सामान्‍य सिप के मामले में निवेशक सिप की अवधि में अपना कॉन्ट्रिब्‍यूशन नहीं बढ़ा सकते हैं. अगर वे इसे बढ़ाना चाहते हैं तो उन्‍हें नए सिरे से सिप शुरू करना होगा या एकमुश्त निवेश करने की जरूरत होगी.सक्रिय रूप से मैनेज किए जाने वाले लार्ज कैप म्‍यूचुअल फंड के तौर-तरीकों का पिछले कुछ सालों में सभी को पता लग गया है. कुछ को छोड़ ज्यादातर स्कीमों ने प्रमुख सूचकांकों से कमतर प्रदर्शन किया है.लंबी अवधि में क्‍या क्रिप्‍टोकरेंसी पैसा बनाने में मदद करेगी?

नयी दिल्ली, 18 अक्टूबर (भाषा) कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाद्रा ने पेट्रोल-डीजल की कीमतों में बढ़ोतरी को लेकर सोमवार को मोदी सरकार पर कटाक्ष करते हुए कहा कि पेट्रोलियम उत्पादों के दाम इस कदर बढ़ा दिए गए हैं कि अब हवाई चप्पल वालों और मध्यम वर्ग का सड़क पर सफर करना भी मुश्किल हो गया है। उन्होंने एक खबर साझा करते हुए ट्वीट किया, ‘‘वादा किया था कि हवाई चप्पल वाले हवाई जहाज से सफर करेंगे। लेकिन भाजपा सरकार ने पेट्रोल-डीजल के दाम इतने बढ़ा दिए कि अब हवाई चप्पल वालों और मध्यम वर्ग का सड़क पर सफर करना भी मुश्किलनिवेशकों के सोने का आकर्षण बढ़ा है. वित्त वर्ष 2020-21 में गोल्ड एक्सचेंज ट्रेडेड फंड्स (ईटीएफ) में निवेशकों ने 6,900 करोड़ रुपये डाले.टाटा मोटर्स ने सब-कॉम्पैक्ट एसयूवी ‘पंच’ उतारी, कीमत 5.49 लाख रुपये से शुरू

शेयरों में निवेश से जुड़े जोखिम के अलावा इंटरनेशनल फंड में निवेश से करेंसी का जोखिम भी जुड़ा होता है. दूसरे देश की मुद्रा के मुकाबले रुपये में कमजोरी और मजबूती का असर आपके रिटर्न पर पड़ता है.नेशनल पेंशन सिस्टम (एनपीएस) में लोगों की दिलचस्पी बढ़ाने की कई कोशिश की जा रही है.म्‍यूचुअल फंडों के एक्सपेंस रेशियो के बारे में यहां जानिए सब कुछ

पूरा पाठ विस्तारित करें
संबंधित लेख
पोकर पोशाक

नयी दिल्ली, 18 अक्टूबर (भाषा) हाजिर बाजार में मजबूती के रुख के कारण सटोरियों ने ताजा सौदों की लिवाली की जिससे वायदा कारोबार में सोमवार को एल्युमीनियम की कीमत 0.83 प्रतिशत की तेजी के साथ 256.35 रुपये प्रति किलो हो गयी। मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज में अक्टूबर माह में डिलीवरी होने वाले अनुबंध के लिये एल्युमीनियम का भाव 2.10 रुपये यानी 0.83 प्रतिशत बढ़कर 256.35 रुपये प्रति किलो हो गया। इसमें 2,098 लॉट के लिये सौदे किये गये। बाजार विश्लेषकों ने कहा कि हाजिर बाजार में उपभोक्ता उद्योगों की मांग बढ़ने के कारण व्यापारियों

पैरिमैच हेल्पलाइन नंबर

ब्‍याज दरों में कटौती का फैसला वापस होने के बाद एक सामान्‍य धारणा बनी. वह यह थी कि चुनावों को देखते हुए यह फैसला लिया गया.

ऑनलाइन स्लॉट नई जर्सी

सक्रिय रूप से मैनेज किए जाने वाले लार्ज कैप म्‍यूचुअल फंड के तौर-तरीकों का पिछले कुछ सालों में सभी को पता लग गया है. कुछ को छोड़ ज्यादातर स्कीमों ने प्रमुख सूचकांकों से कमतर प्रदर्शन किया है.

रूले लाइव मेटोडी

मस्क अभी कई कंपनियों के सर्वेसर्वा हैं। इनमें टेस्ला, रॉकेट स्टार्टअप स्पेसएक्स (SpaceX) और Neuralink शामिल हैं। Neuralink इंसानी दिमाग को कम्प्यूटर से जोड़ने के लिए अल्ट्रा-हाई बैंडविड्थ ब्रेन मशीन विकसित कर रही है। पिछले कुछ साल से मस्क और बेजोस के बीच स्पेस में जाने के लिए होड़ मची हुई है। अप्रैल में नासा ने बेजोस की कंपनी ब्लू ऑरिजिन की बोली को खारिज करते हुए मस्क की कंपनी स्पेसएक्स को 2.9 अरब डॉलर का ठेका दिया था।

पोकर वीडियो

सक्रिय रूप से मैनेज किए जाने वाले लार्ज कैप म्‍यूचुअल फंड के तौर-तरीकों का पिछले कुछ सालों में सभी को पता लग गया है. कुछ को छोड़ ज्यादातर स्कीमों ने प्रमुख सूचकांकों से कमतर प्रदर्शन किया है.

संबंधित जानकारी
गरम जानकारी
नवीनतम फुटबॉल सट्टेबाजी साइट

न्यूयॉर्क, 18 अक्टूबर (भाषा) वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने दुनियाभर में कोविड-19 महामारी से मुकाबले के लिए एक अंतरराष्ट्रीय वित्तीय ढांचा बनाने पर जोर दिया है। उन्होंने कहा कि टीके के कच्चे माल के लिए आपूर्ति श्रृंखला को खुला रखने की जरूरत है। वित्त मंत्री ने रविवार को जी30 अंतरराष्ट्रीय बैंकिंग सेमिनार में वर्चुअल तरीके से भाग लेते हुए यह बात कही। वित्त मंत्रालय ने ट्वीट कर यह जानकारी दी। सीतारमण ने जलवायु और महामारी से सुरक्षा के लिए वित्त और प्रौद्योगिकी समाधान के समान तरीके से वितरण पर जोर दिया। उन्होंने कहा कि इसके लिए केंद्रित तरीके से