बैकारेट video

बैकारेट video

time:2021-10-18 19:40:41 निवेश की शुरुआत करने जा रहे हैं? जानिए कैसे उठाएं एक-एक कदम Views:4591

क्रिकेटर दा सिल्वा बैकारेट video 10cric ज़ूम,casumo जैकपॉट विजेता,लियोवेगास वेरीफिज़िरंग,lovebet डेयर सैमी,lovebet ऑनलाइन बेटिंग,lovebet.com gh,या शतरंज,बैकरेट गेम मशीन कौशल,बैकारेट जीतना धोखा देती है ऑनलाइन पढ़ना,असली पैसे वाली साइटों पर दांव लगाना,कैसीनो कॉस्मो,कैसीनो एक्स,सिक्का स्लॉट मशीन,क्रिकेट - मतलब हिंदी में,बैंक खाली करें,एफए क्रिकेट,फुटबॉल भविष्यवाणी नेट,उत्पत्ति कैसीनो निकासी नीति,टेनिस पर दांव कैसे लगाएं,आईपीएल उद्धरण,जैकपॉट ज़ा,लाइव कैसीनो bet365,लॉटरी 5 4 2021,भाग्यशाली दिन कैसीनो श्रृंखला,एनबीए स्काउट नेटवर्क,ऑनलाइन क्रेडिट बेटिंग प्लेटफॉर्म,ऑनलाइन पोकर ohne anmeldung,परिमच लाइव स्ट्रीम,पोकर गड़बड़ शब्द,रेड जोन स्पोर्ट्सबुक,नियम मिनट 8,रम्मी वाई बुराको,स्लॉट मशीन नंबर,खेल एक rds,मेरे पास स्पोर्ट्सबुक,टेक्सास होल्डम पोकर मुक्त,टीआर स्पोर्ट्स पूल टेबल,ऑनलाइन baccarat कहाँ है,याहू स्पोर्ट्सबुक ट्विटर,ऐसे बकरा,क्रिकेट kab hai,गोवा ट्रिप,तीन पत्ती vango,बकरा और मीणा की लड़ाई,बेताब अजय देवगन,लॉटरी लकी नंबर 2021, .निवेश की शुरुआत करने जा रहे हैं? जानिए कैसे उठाएं एक-एक कदम

निवेश की शुरुआत जितनी जल्दी कर दी जाए, उतना अच्‍छा होता है.
एक अध्ययन के अनुसार, 21 से 36 साल की आयु वर्ग के 52 फीसदी लोग अपनी बचत कैश में रखते हैं. इस तरह यह पैसा बढ़ता नहीं है. आकांक्षा इस बात को अच्‍छी तरह से समझती हैं कि अगर उन्‍हें वित्तीय स्वतंत्रता का लक्ष्‍य पाना है तो यह तरीका नहीं है. उन्‍होंने हाल ही में पर्सनल फाइनेंस की अपनी यात्रा शुरू की है. वह अपने लिए मजबूत भविष्य बनाना चाहती हैं. उनके रिटायरमेंट में अभी 40 साल है. हालांकि, अन्‍य कई युवाओं की तरह उन्‍हें भी शुरुआती प्रोत्साहन देने की जरूरत है. वह अपने इस सफर में आगे बढ़ें, इसके लिए जानते हैं कि वह और उनके जैसे तमाम युवा क्‍या-कुछ कर सकते हैं.

आकांक्षा जैसे नए निवेशकों को डायवर्सिफाइड पोर्टफोलियो बनाने पर जोर देना चाहिए. इसमें डिफेंसिव और ग्रोथ आधारित दोनों तरह के इंवेस्‍टमेंट होने चाहिए. उनके पोर्टफोलियो में ग्रोथ के लिए इक्विटी शेयर और म्यूचुअल फंड और डिफेंस के लिए बॉन्‍ड, डिपॉजिट और गोल्‍ड जरूर होना चाहिए.

इसे भी पढ़ें : मुझे महीने में 40,000 रुपये म्‍यूचुअल फंडों में निवेश करना है, किन स्‍कीमों में लगाऊं?

निवेश की शुरुआत करने से पहले आकांक्षा के मन में सवाल उठ सकता है कि वह अपने पोर्टफोलियो को मैनेज कैसे करेंगी. उनके पास न तो मार्केट के बारे में अध्ययन करने का समय है, न ही चार्ट पैटर्न और कंपनियों के बिजनेस मॉडल समझने का. लिहाजा, शायद उन्‍हें कोई निर्णय लेने में दिक्‍कत हो. इसका समाधान है. उन्‍हें इंडेक्‍स में निवेश करने के बारे में सोचना चाहिए और बाजार के उतार-चढ़ाव के बारे में भूल जाना चाहिए.

निवेश की रणनीति पर फैसला उनके विवेक पर निर्भर करता है. निवेश से पहले उन्‍हें अपनी जोखिम लेने की क्षमता का पता लगा लेना चाहिए. व‍ह निवेश पर कैसे नजर रखेंगी, इसे भी सुनिश्चित कर लेना चाहिए.

इसे भी पढ़ें : एनपीएस में निवेश किया है? जानिए एसेट एलोकेशन में कैसे करें बदलाव

यह उन्‍हें फैसला लेने में मदद करेगा कि आकांक्षा एक्टिव मैनेजमेंट रूट का इस्‍तेमाल करना चाहती हैं या उनका भरोसा बेंचमार्क इंडेक्‍स या ईटीएफ पर है. सक्रिय रूप से प्रबंधित की जाने वाली म्‍यूचुअल फंड स्‍कीमों के उलट ईटीएफ बाजार से बेहतर प्रदर्शन करने की कोशिश नहीं करते हैं. बजाय इसके इन्‍हें मार्केट ट्रैक करने के लिए डिजाइन किया गया है. इन्‍हें आमतौर पर अपेक्षाकृत सुरक्षित और लागत प्रभावी माना जाता है. ईटीएफ नए निवेशकों के लिए अच्‍छा विकल्‍प है. इसके लिए आकांक्षा को सिर्फ डीमैट अकाउंट की जरूरत होगी.

आकांक्षा निवेश की शुरुआत जितनी जल्दी कर देंगी, उतना अच्‍छा होगा. उन्‍हें अपनी निवेश रणनीति के साथ बने रहना चाहिए. किसी भी हालत में भावनाओं को हावी नहीं होने देना चाहिए. बाजार की दैनिक उठापटक से उनका लक्ष्‍य प्रभावित नहीं होना चाहिए. कुल मिलाकर लब्बोलुआब यह है कि छोटी रकम से निवेश की शुरुआत करें. पोर्टफोलियो को डायवर्सिफाई करें. धैर्य रखें. स्मार्ट फैसले लें.

इस पेज की सामग्री सेंटर फॉर इंवेस्टमेंट एजुकेशन एंड लर्निंग (सीआईईएल) के सौजन्य से. गिरिजा गादरे, आरती भार्गव और लब्धि मेहता का योगदान.

पैसे कमाने, बचाने और बढ़ाने के साथ निवेश के मौकों के बारे में जानकारी पाने के लिए हमारे फेसबुक पेज पर जाएं. फेसबुक पेज पर जाने के लिए यहां क्‍ल‍िक करें
(Disclaimer: The opinions expressed in this column are that of the writer. The facts and opinions expressed here do not reflect the views of www.economictimes.com.)

टॉपिक

निवेश की शुरुआतईटीएफएक्‍सचेंज ट्रेडेड फंडनिवेश की रणनीतिम्‍यूचुअल फंडनिवेश का फैसला

ETPrime stories of the day

PrimeTalk invite | Blurring the lines of retail.
Modern retail

PrimeTalk invite | Blurring the lines of retail.

2 mins read
Inside Amrish Rau’s experiments at Pine Labs: card swipe as a gateway to everything that’s SaaS
Fintech

Inside Amrish Rau’s experiments at Pine Labs: card swipe as a gateway to everything that’s SaaS

10 mins read
Auto sales may plunge 30% this festive season. But don’t blindly point a finger at tepid demand.
Auto

Auto sales may plunge 30% this festive season. But don’t blindly point a finger at tepid demand.

12 mins read

जब संस्‍थान में किसी कर्मचारी को नौकरी छोड़ने के लिए कहा जाता है तो वे आमतौर पर चौंक जाते हैं. लेकिन, कई मामलों में इसके संकेत पहले से मिलने लगते हैं. बात सिर्फ इतनी होती है कि कर्मचारी इन संकेतों का मतलब समझकर सुधार की दिशा में कदम नहीं उठा पाते हैं. आइए, यहां ऐसे ही कुछ संकेतों के बारे में जानते हैं.समय गुजरने के साथ उन्‍हें इक्विटी में निवेश कम कर देना चाहिए. इसके बजाय धीरे-धीरे डेट फंडों की ओर रुख करना चाहिए.ये 5 टिप्‍स करियर में आगे बढ़ने में करेंगी मदद

सुकन्या समृद्धि स्‍कीम में बेटी के जन्‍म के बाद उसके नाम पर खाता खुलवाया जा सकता है. उसके 10 साल का होने तक ऐसा किया जा सकता है.जब संस्‍थान में किसी कर्मचारी को नौकरी छोड़ने के लिए कहा जाता है तो वे आमतौर पर चौंक जाते हैं. लेकिन, कई मामलों में इसके संकेत पहले से मिलने लगते हैं. बात सिर्फ इतनी होती है कि कर्मचारी इन संकेतों का मतलब समझकर सुधार की दिशा में कदम नहीं उठा पाते हैं. आइए, यहां ऐसे ही कुछ संकेतों के बारे में जानते हैं.दिवाली से पहले बैंक कर्मचारियों के लिए खुशखबरी, 15% बढ़ेगा वेतन

इंडेक्‍स फंडों की तरह ईटीएफ अमूमन किसी खास मार्केट इंडेक्स को ट्रैक करते हैं. इनका प्रदर्शन उस इंडेक्‍स जैसा होता है.साल में कम से कम एक निवेश की समीक्षा जरूर करें और दोबारा संतुलन बनाएं. अपने लिए पर्याप्‍त लाइफ इंश्‍योरेंस खरीदें.बेटी की उम्र 8 साल है, सुकन्या समृद्धि और पीपीएफ में से किसमें निवेश करना फायदेमंद?

पूरा पाठ विस्तारित करें
संबंधित लेख
स्लॉट ज़ेटेल्स

जब संस्‍थान में किसी कर्मचारी को नौकरी छोड़ने के लिए कहा जाता है तो वे आमतौर पर चौंक जाते हैं. लेकिन, कई मामलों में इसके संकेत पहले से मिलने लगते हैं. बात सिर्फ इतनी होती है कि कर्मचारी इन संकेतों का मतलब समझकर सुधार की दिशा में कदम नहीं उठा पाते हैं. आइए, यहां ऐसे ही कुछ संकेतों के बारे में जानते हैं.

लॉटरी परिणाम रात

एनपीएस अकाउंट खोलते वक्त सब्सक्राइबर्स को विकल्प दिया जाता है. वे चाहें तो विभिन्न एसेट क्लास में खुद पैसा लगाएं. या फिर ऑटो च्‍वाइस ऑप्शन चुनें.

गोवा खेल

विशेषज्ञों का कहना है कि औद्योगिक कमोडिटीज में निवेश से सोने के मुकाबले बढ़िया रिटर्न मिल सकता है

lovebet जी हिलार

उन्होंने कहा कि इस क्षेत्र के विभिन्न फॉर्मेट में चुनौतियों और अड़चनों को दूर करने के लिए सीआईआई के तहत खुदरा सेक्‍टर के लोगों का मानना है कि सरकार को एक मजबूत रिटेल पॉलिसी लानी चाहिए.

बेतालघाट

विशेषज्ञों का कहना है कि औद्योगिक कमोडिटीज में निवेश से सोने के मुकाबले बढ़िया रिटर्न मिल सकता है

संबंधित जानकारी
गरम जानकारी