कानून द्वारा नियम परिभाषा

कानून द्वारा नियम परिभाषा

time:2021-10-26 20:30:54 एनपीएस में निवेश की उम्र सीमा बढ़कर हो सकती है 70 साल! Views:4591

सभी नियमों में पोकर कानून द्वारा नियम परिभाषा 188bet कंबोडिया,casumo भुगतान नहीं कर रहा है,leovegas,lovebet दी डोंग,lovebet मालिक,lovebet.f,एयू फुटबॉल स्कोर,बैकारेट घोस्ट,पैसे के साथ बैकारेट,बेटिंग राजा अभिनेता का नाम,कैसीनो के दिन ५० मुफ्त स्पिन,कैसीनो योंकर्स,कॉम.क्रिकेट.लाइव लाइन,क्रिकेट का शोर,ईस्पोर्ट्स बेटिंग प्लेटफॉर्म,फंतासी फुटबॉल लॉटरी विचार,फुटबॉल स्कोर भविष्यवाणी विधि,जीएच फुटबॉल समाचार,विदेशी जुआ साइटों से कैसे संपर्क करें,आईपीएल तालिका बिंदु 2021,जेसी होगन क्रिकेट किताब,लाइव कैसीनो संपर्क नंबर,लॉटरी 7 स्टार,लूडो बोर्ड,नई क्रिकेट किताब 2020,ऑनलाइन फुटबॉल सट्टेबाजी मंच,ऑनलाइन पोकर रैंकिंग,पैरिमैच नो डिपॉजिट बोनस,पोकर लिंक अल्टरनेटिफ़,रील स्लॉट्स यू ट्यूब,नियम परेतो,रम्मी-0 नियम,स्लॉट मशीन क्वांटो पैगानो,स्पोर्ट्स औक्स पुसेस,स्पोर्ट्सबुक पीएनजी,टेक्सास होल्डम रेगोले,त्रिकोणीय पोकर ऑनलाइन,सबसे मजबूत बैकारेट वेबसाइट कहां है,यूट्यूब शतरंज,ऑनलाइन गेम्स प्ले,क्रिकेट meaning in english,गोवा थाना,तीन पत्ती का,बकरा जिबह करने की दुआ,बेताब मूवी सनी देओल,वह फुटबॉल खेलता है in english, .एनपीएस में निवेश की उम्र सीमा बढ़कर हो सकती है 70 साल!

60 साल से अधिक उम्र के लोगों के लिए भी एनपीएस अकाउंट खोलने और उसे कंटिन्यू करने का फैसला किया जा सकता है.
पेंशन फंड रेगुलेटरी एंड डेवलपमेंट अथॉरिटी ने अब नेशनल पेंशन सिस्टम (एनपीएस) में लोगों की दिलचस्पी बढ़ाने के लिए एंट्री की अधिकतम उम्र को 65 से बढ़ाकर 70 साल करने पर विचार कर रही है.

पीएफआरडीए के चेयरमैन सुप्रतिम बंदोपाध्याय ने इस बारे में कहा, "हम वास्तव में 60 साल से अधिक उम्र के लोगों के लिए भी एनपीएस अकाउंट खोलने और उसे कंटिन्यू करने पर विचार कर रहे हैं हम चाहते हैं कि लोग 75 साल की उम्र तक एनपीएस में निवेश करते रहें."

इसे भी पढ़ें: देश में कोरोना संकट बढ़ने के साथ ही कई राज्यों में बढ़ी सख्ती

नेशनल पेंशन सिस्टम में अभी 70 साल की उम्र तक योगदान किया जा सकता है. बंदोपाध्याय ने कहा कि पिछले 3.5 साल में 60 साल से अधिक उम्र के करीब 15,000 लोगों ने एनपीएस ज्वाइन किया है. इसी अवधि में एनपीएस को ज्वाइन करने की उम्र सीमा 60 से बढ़ाकर 65 साल कर दी गई थी.

एनपीएस और अटल पेंशन योजना को नियंत्रित करने वाली पेंशन अथॉरिटी ने कहा है कि 31 मार्च तक एनपीएस के सब्सक्राइबर बेस में 23 फ़ीसदी का ग्रोथ देखा गया है. अब इसमें योगदान करने वाले लोगों की संख्या करीब सवा चार करोड़ हो गई है. अगर बात इन दोनों पेंशन योजनाओं के तहत कुल संपत्ति प्रबंधन की करें तो यह 5.78 लाख करोड़ रुपए पहुंच गया है.

expansion-mode

बंदोपाध्याय ने कहा कि पिछले साल कोरोनावायरस की वजह से कई चुनौतियां आई लेकिन इसके बाद भी पेंशन योजना में निवेश करने वाले लोगों की संख्या और रकम दोनों बढ़ी है. पीएफआरडीए को उम्मीद है कि चालू वित्त वर्ष में नेशनल पेंशन सिस्टम और अटल पेंशन योजना में 1 करोड़ से अधिक ग्राहकों को जोड़ा जा सकता है, पिछले वित्त वर्ष में इन दोनों पेंशन योजनाओं ने 83 लाख से अधिक ग्राहक जोड़े थे.

पेंशन नियामक वास्तव में एक प्रस्ताव पर विचार कर रहा है जिसमें पेंशन अमाउंट ₹3,00,000 तक होने पर पूरी रकम की निकासी की इजाजत दे दी जाए. इस समय पेंशन अकाउंट से ₹2,00,000 या उससे कम के रकम की निकासी की ही इजाजत दी गई है.

पीएफआरडीए जल्द ही एक रिक्वेस्ट फॉर प्रपोजल लेकर भी आने वाला है जिसमें एनपीएस के तहत किए जाने वाले निवेश पर मिनिमम गारंटीड पेंशन दिया जाएगा. यह वास्तव में पेंशन फंड मैनेजर को लाइसेंस पर 45 दिन का विंडो देने के साथ किया जा सकता है.

इसे भी पढ़ें: भारत से खुदरा बैंकिंग कारोबार समेट सकती है सिटी ग्रुप!

हिंदी में पर्सनल फाइनेंस और शेयर बाजार के नियमित अपडेट्स के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज. इस पेज को लाइक करने के लिए यहां क्लिक करें

टॉपिक

एनपीएससुप्रतिम बंदोपाध्यायपेंशन प्लाननेशनल पेंशन सिस्टमपीएफआरडीए

ETPrime stories of the day

After a robust rally, pharma stocks feel under the weather. But do they make a case for value buy?
Recent hit

After a robust rally, pharma stocks feel under the weather. But do they make a case for value buy?

9 mins read
Can Hero Electric keep going as Ather, Ola rev up e-scooters? One puzzle Naveen Munjal is solving.
Electric vehicles

Can Hero Electric keep going as Ather, Ola rev up e-scooters? One puzzle Naveen Munjal is solving.

11 mins read
Survival of the richest: why investment in conservation is horribly skewed
Environment

Survival of the richest: why investment in conservation is horribly skewed

6 mins read

सामान्‍य सिप के मामले में निवेशक सिप की अवधि में अपना कॉन्ट्रिब्‍यूशन नहीं बढ़ा सकते हैं. अगर वे इसे बढ़ाना चाहते हैं तो उन्‍हें नए सिरे से सिप शुरू करना होगा या एकमुश्त निवेश करने की जरूरत होगी.मारुति सुजुकी इंडिया, फोर्ड इंडिया और महिंद्रा एंड महिंद्रा जैसी वाहन कंपनियां भी जनवरी से अपने वाहनों के दाम में बढ़ोतरी की घोषणा कर चुकी हैं.धनतेरस 2020 : इन 3 तरीकों से सोना खरीद सकते हैं आप

अपने घर के लिए अगर आप एयर प्यूरिफायर खरीदने जा रहे हैं तो कुछ बातों को जान लेना जरूरी है. यहां हम उन्हीं के बारे में बता रहे हैं.बुधवार को देश की सबसे बड़ी कार बनाने वाली कंपनी मारुति सुजुकी इंडिया ने भी अपनी कारों के दाम बढ़ाने का एलान किया था. कीमतों में यह बढ़ोतरी जनवरी से लागू होगी.व्हॉट्सएप ने अपने एप पर 'शॉपिंग बटन' जोड़ा, जानिए क्‍या होगा फायदा

फ्रैंकलिन टेम्पलटन म्यूचुअल फंड की बंद हो चुकी स्कीमों के निवेशकों को इस हफ्ते पैसे मिल जाएंगे. छह स्कीमों के निवेशकों को 2,962 करोड़ रुपये इस हफ्ते मिल जाएंगे.यूनिट लिंक्ड इंश्‍योरेंस प्‍लान यानी यूलिप और म्यूचुअल फंड कई मायनों में अलग होते हैं. यह और बात है कि कई लोग इन्‍हें एक जैसा प्रोडक्ट समझने की भूल कर बैठते हैं. आपको भी अगर ऐसी गलतफहमी है तो यहां हम इन दोनों के बीच कुछ महत्वपूर्ण अंतरों के बारे में बता रहे हैं.फ्रैंकलिन टेम्पलटन के निवेशकों को इस हफ्ते मिलेंगे 2,962 करोड़ रुपये

पूरा पाठ विस्तारित करें
संबंधित लेख
बोन्स केरी

पहले ही कार बनाने वाली कई कंपनियां अपने-अपने मॉडलों के दाम बढ़ाने का एलान कर चुकी हैं. ये जनवरी से गाड़‍ियों के दाम बढ़ाएंगी. इन कंपनियों में मारुति सुजुकी, फोर्ड, महिंद्रा एंड महिंद्रा और रेनॉ शामिल हैं.

क्लासिक रम्मी डॉटकॉम

सरकार ने शुक्रवार को ओला और उबर जैसी कैब एग्रीगेटर कंपनियों के ऊपर मांग बढ़ने पर किराए बढ़ाने की एक सीमा लगा दी है.

लूडो गोटी

बुधवार को देश की सबसे बड़ी कार बनाने वाली कंपनी मारुति सुजुकी इंडिया ने भी अपनी कारों के दाम बढ़ाने का एलान किया था. कीमतों में यह बढ़ोतरी जनवरी से लागू होगी.

डिलीट delete

युवा खासतौर से डायमंड ज्‍वेलरी खरीदने में दिलचस्‍पी लेते हैं. 10,000-20,000 रुपये की रेंज में लो प्राइस डायमंड ज्‍वेलरी के खासतौर से अच्‍छा करने की उम्‍मीद है.

फुटबॉल लॉटरी ka

पहले ही कार बनाने वाली कई कंपनियां अपने-अपने मॉडलों के दाम बढ़ाने का एलान कर चुकी हैं. ये जनवरी से गाड़‍ियों के दाम बढ़ाएंगी. इन कंपनियों में मारुति सुजुकी, फोर्ड, महिंद्रा एंड महिंद्रा और रेनॉ शामिल हैं.

संबंधित जानकारी
गरम जानकारी