रीना जी का भजन

रीना जी का भजन

time:2021-10-26 19:59:08 फ्रैंकलिन टेम्पलटन एमएफ से आपको अपना निवेश कब निकालना चाहिए? Views:4591

गोवा ऑल बीच में सॉन्ग रीना जी का भजन 188bet सीएसगो,casumo कार्यालय माल्टा,lovebet - पी क्यू महत्व,एंड्रॉइड के लिए lovebet डाउनलोड करें,lovebet o'zbekistonda qonuniymi,lovebet.r,एयू स्लॉट कैसीनो मोबाइल,बैकरेट सोने का सिक्का खेल,बैकारेट एक्स क्रोम हार्ट्स,बेटिंग रैंकिंग,कैसीनो दिन एपीके डाउनलोड,कैसीनो युकोन,com.rummy.best रम्मी.गेम ऑनलाइन,क्रिकेट एकदिवसीय रैंकिंग,एस्पोर्ट्स चाइना,बारिश में खुश किसान,फुटबॉल शूटिंग कौशल,जीएच लॉटरी शॉर्ट कोड,बैकरेट नीति को कैसे क्रैक करें,आईपीएल आज,जेएच स्पोर्ट्स,लाइव कैसीनो डेमो,लॉटरी 8 बजे का खेल,लूडो कैश गेम,नवीनतम सट्टेबाज,ऑनलाइन फुटबॉल लाइव,ऑनलाइन पोकर रियल मनी यूएसए,पारिमैच आधिकारिक ऐप,पोकर लोट्टो,बेटिंग नेटवर्क में रजिस्टर करें,नियम वर्तमान पूर्ण काल,रम्मीसर्कल (1).apk,स्लॉट मशीन प्रश्नोत्तरी,स्पोर्ट्स बेटिंग 365,स्पोर्ट्सबुक reddit,टेक्सास होल्डम वही हाथ जो जीतता है,इलेक्ट्रॉनिक गेम ऑनलाइन आज़माएं,फ़ुटबॉल हैंडीकैप सट्टेबाजी की मात्रा को कहाँ देखें,यूवेगर स्पोर्ट्सबुक,ऑनलाइन जुआ baccarat,क्रिकेट nibandh,गोवा थ्री,तीन पत्ती कॅश गेम ऑनलाइन,बकरा झील,बेताब सनी देओल,विश्व कप मकाऊ ऑड्स, .फ्रैंकलिन टेम्पलटन एमएफ से आपको अपना निवेश कब निकालना चाहिए?

फ्रेंकलिन टेंपलटन के इंडियन मैनेजमेंट ने घरेलू कारोबार के लिए अपनी प्रतिबद्धता जताई थी.
फ्रेंकलिन टेंपलटन की स्टोरी में रोज नई रोचकता आ रही है. तरलता के संकट से शुरू हुआ फ्रैंकलिन का मामला अब डेट फंड को बंद करने से होता हुआ विदेश नीति पर जाकर अटक गया है. इस बारे में पिछले महीने इकनॉमिक टाइम्स ने आपको जानकारी दी थी कि एसेट मैनेजर के अमेरिकी पैरंट कंपनी ने इस मामले में भारतीय प्रशासन से संपर्क कर समाधान निकालने के लिए डिप्लोमेटिक चैनल ढूंढना शुरू किया है.

इसे भी पढ़ें: एथनिक ड्रेस पर इतना बड़ा दांव क्यों खेल रही है आदित्य बिड़ला फैशन?
एसेट मैनेजर ने वास्तव में यह भी संकेत दिया था कि अगर नियामक इसके ऊपर कार्रवाई करता है तो यह उस से कैसे पीछा छुड़ा सकता है. इसके कुछ दिन बाद ही फ्रेंकलिन टेंपलटन के इंडियन मैनेजमेंट ने घरेलू कारोबार के लिए अपनी प्रतिबद्धता जताई थी. उसके बाद भी फंड हाउस द्वारा कई स्कीम को वापस लेने की वजह से फ्रेंकलिन के निवेशक निराश हो चुके हैं.

एक नए डेवलपमेंट में अब फ्रेंकलिन टेंपलटन म्यूचुअल फंड के उन निवेशकों के लिए भी संकट आ सकता है जो उसके द्वारा बंद किए गए 6 फंड से अलग निवेश कर चुके हैं. भारत में म्यूचुअल फंड कारोबार में बहुत पुरानी खिलाड़ियों में से एक फ्रेंकलिन टेंपलटन ने भारत में दुनिया के बेस्ट वेल्थ मैनेजमेंट प्रैक्टिस की शुरुआत की थी.

वास्तव में राजकोषीय प्रावधानों और जिम्मेदारियों के हिसाब से फ्रेंकलिन टेंपलटन के प्रावधान को गोल्ड स्टैंडर्ड का माना जाता था. डेट स्कीम को हैंडल करने में फ्रेंकलिन टेंपलटन की गलतियों ने बहुत से निवेशकों का भरोसा छीन लिया है.

फ्रेंकलिन टेंपलटन की म्यूचुअल फंड स्कीम में अब तक ₹78,000 करोड़ का निवेश किया जा चुका है, लेकिन बहुत से लोग अपना निवेश भुनाना चाहते हैं. सवाल यह है कि क्या आपको फ्रेंकलिन टेंपलटन फंड में किए गए निवेश में बने रहना चाहिए या इसे भुना लेना चाहिए?

अगर आप इस बात से परेशान हैं कि आपका पैसा फ्रेंकलिन के पास पड़ा हुआ है तो आपको इस निवेश से घबराने की जरूरत नहीं है. आपका पैसा सुरक्षित है और यह एक ट्रस्ट में रखा हुआ है जो आपके नाम से बना हुआ है. एएमसी सिर्फ फीस लेकर आपके पैसे का प्रबंधन कर रही है. अगर कोई फंड हाउस अपना कारोबार समेट लेता है और बंद हो जाता है तो निवेशकों को मौजूदा एनएवी पर फंड हाउस से निकलने का मौका मिलता है.

अगर निवेशक जबरन अपना पैसा किसी म्यूचल फंड से निकालते हैं तो इसमें भी जोखिम होता है. सबसे पहली बात तो यह कि आपको कैपिटल गैन पर टैक्स देना पड़ता है. इसके साथ ही आपकी टैक्स देनदारी इस बात पर भी निर्भर करती है कि आपने किसी स्कीम में किस तरह से निवेश किया हुआ है. इसके साथ ही दोबारा इन्वेस्टमेंट के जोखिम की वजह से भी किसी म्यूच्यूअल फंड से निकलना समझदारी वाला काम नहीं है.

इसे भी पढ़ें: भारत को जीरो एमिशन टार्गेट का वादा क्यों नहीं करना चाहिए?

हिंदी में पर्सनल फाइनेंस और शेयर बाजार के नियमित अपडेट्स के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज. इस पेज को लाइक करने के लिए यहां क्लिक करें.

टॉपिक

फ्रेंकलिन टेंपलटन म्यूचुअल फंडफ्रेंकलिननिवेशम्यूचुअल फंडफ्रैंकलिन टेम्पलटनएमएफ

ETPrime stories of the day

After a robust rally, pharma stocks feel under the weather. But do they make a case for value buy?
Recent hit

After a robust rally, pharma stocks feel under the weather. But do they make a case for value buy?

9 mins read
Can Hero Electric keep going as Ather, Ola rev up e-scooters? One puzzle Naveen Munjal is solving.
Electric vehicles

Can Hero Electric keep going as Ather, Ola rev up e-scooters? One puzzle Naveen Munjal is solving.

11 mins read
Survival of the richest: why investment in conservation is horribly skewed
Environment

Survival of the richest: why investment in conservation is horribly skewed

6 mins read

रेलवे बोर्ड के चेयरमैन वीके यादव ने बताया कि कोविड-19 महामारी के कारण अब तक परीक्षा आयोजित नहीं कराई जा सकी थी.रेलवे बोर्ड के चेयरमैन वीके यादव ने बताया कि कोविड-19 महामारी के कारण अब तक परीक्षा आयोजित नहीं कराई जा सकी थी.कोविड के बीच जानिए कहां मिल रही हैं नौकरियां

सामान्‍य सिप के मामले में निवेशक सिप की अवधि में अपना कॉन्ट्रिब्‍यूशन नहीं बढ़ा सकते हैं. अगर वे इसे बढ़ाना चाहते हैं तो उन्‍हें नए सिरे से सिप शुरू करना होगा या एकमुश्त निवेश करने की जरूरत होगी.इसके साथ ही देश के इस सबसे बड़े बैंक ने कहा कि वॉलेंटरी रिटायरमेंट स्‍कीम (वीआरएस) लागत में कटौती करने के लिए नहीं है.रेलवे में 1.40 लाख पदों पर भर्ती के लिए 15 दिसंबर से शुरू होगी परीक्षा

जून में कर्मचारी राज्‍य बीमा स्‍कीम (ईएसआईसी) से जुड़ने वाले मेंबर्स की संख्‍या में भी तेज इजाफा हुआ है.2020 के पहले छह महीनों में केपजेमिनी ने 9,500 लोगों की भर्ती की है. सेकेंड हाफ में उसकी 13,500 लोगों को रिक्रूट करने की योजना है.बुजुर्गों को मिले ज्‍यादा ब्‍याज, एससीएसएस की लिमिट बढ़ाकर ₹50 लाख की जाए

पूरा पाठ विस्तारित करें
संबंधित लेख
बेटिंग राजा फिल्म कास्ट

पेटीएम के सीएचआरओ रोहित ठाकुर ने ईटी को बताया कि पिछले तीन से चार महीनों में कंपनी ने करीब 700 लोगों की भर्ती की है. इन्‍हें ऑनलाइन रिक्रूट किया गया है.

10cric एक्सचेंज

कई ग्राहक मोरेटोरियम और उससे पड़ने वाले असर को नहीं समझते हैं. इसे देखते हुए कलेक्‍शन में बाधा आई है.

रम्मी वाई बुराको पेशेवर रुइबालो

ब्‍याज दरों में कटौती का फैसला वापस होने के बाद एक सामान्‍य धारणा बनी. वह यह थी कि चुनावों को देखते हुए यह फैसला लिया गया.

इस्लाम में खेल

प्राइम इंवेस्टर ने निवेशकों को फ्रैंकलिन टेम्पलटन म्यूचुअल फंड की सभी स्कीमों से निकासी करने की सलाह दी है. प्राइम इंवेस्टर चेन्नई की एक स्वतंत्र रिसर्च फर्म है.

एस्पोर्ट्स चाइना

ब्‍याज दरों में कटौती का फैसला वापस होने के बाद एक सामान्‍य धारणा बनी. वह यह थी कि चुनावों को देखते हुए यह फैसला लिया गया.

संबंधित जानकारी
गरम जानकारी